CALL NOW 9999807927 & 7737437982
दरभंगाबिहार

पर्यवेक्षण गृह मे गांधी व शास्त्री की मनाई गईं जयंती

पर्यवेक्षण गृह मे गांधी व शास्त्री की मनाई गईं जयंती

राष्ट्रपिता महात्मा गांधी एवम पूर्व प्रधानमंत्री लालबहादुर शास्त्री तथा अंतरराष्ट्रीय अहिंसा दिवस के अवसर पर पर्यवेक्षण गृह दरभंगा मे जयंती मनाई गईं।कार्यक्रम के शुरुआत गांधी एवम शास्त्री के चित्र पर सुतांजली तथा पुष्पांजलि अर्पित कर सर्व धर्म प्रार्थना सभा से की गईं ।

कार्यक्रम में उपस्थित बरिष्ठ गांधीवादी हृदय नारायण चौधरी ने चरखा से सूत काटकर सत्य व अहिंसा का पाठ पढ़ाते हुए कहा की चरखा सत्य अहिंसा व स्वाबलंबन का प्रतीक है, जिसके बल अंग्रेजो को हराया गया । किशोर न्याय बोर्ड के सदस्य अजीत कुमार मिश्र ने बच्चों से संवाद स्थापित करते हुए कहा कि अहिंसा मनुष्य की सबसे बड़ी ताकत है।

आज हमारे समाज, परिवार, राष्ट्र के साथ ही संपूर्ण दुनियां अंतर्कलह से जूझ रही है, ऐसे मे गांधी विचार को अपनाना होगा।गांधी विचार ही हमें शांति का मार्ग प्रशस्त कर सकता है।

Best Competitive Exam App
सभी प्रकार के गवर्नमेंट एग्ज़ाम की तैयारी को सुनिश्चित करने के लिए आज हमारे ऐप को डाउनलोड करें

बोर्ड की सदस्या डॉ कुमारी गुंजन ने योग निद्रा के माध्यम से गांधी के विचारों मे योग व नेचुरोपैथ के महत्व को रेखांकित की। गांधीवादी भगवती प्रसाद झा ने कहा की गांधी के अनुसार अच्छे संगति से अच्छे मानव बन सकते हैं। विजन के निदेशक अजय किशोर ने कहा कि गांधी जी चाहते थे कि शिक्षा आर्थिक उपार्जन के लिए नहीं शिक्षा मानवता को जिंदा रखकर संस्कारवान बनाने के लिए होनी चाहिए।

डॉ कुमारी भारती रंजन ने तथा पंकज चौधरी ने कविता के माध्यम से ग्राम स्वराज्य का अर्थ बताते हुए कहा कि एक बड़े समृद्ध परिवार में जन्मे गांधी ने एक धोती पहनकर पूरे दुनियां के समक्ष सत्याग्रह के बल लड़ाई जीती जा सकती है साबित कर दिए। कार्यक्रम के शुरुआत में आगत अतिथि स्वागत व संचालन वरिष्ठ परामर्शी राम शंकर झा एवम धन्यवाद ज्ञापन अधीक्षिका डेजी कुमारी ने की। इस अवसर पर पी ओ बसंत ठाकुर,शोभानंद,दीपक , राजकुमार आदि भी मौजूद थे।

Show More

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Back to top button